पर्यावरण संरक्षण


जीवन बचाने के हेतु पर्यावरण बचाना अति अवश्यक है। विशेषज्ञों का कहना है कि कचरा पदार्थों का उचित प्रबंधन, जैसे कि उनका पुन: उपयोग या निपटान करना, ऊर्जा को संरक्षित करने और पर्यावरण की रक्षा करने के हमारे प्रयासों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होना चाहिए।

आधुनिकीकरण और शहरीकरण की बढ़ती दर ने पर्यावरण पर भारी असर डाला है। लोगों की जीवन शैली में आधुनिकीकरण के कारण, पर्यावरण की स्थिति दिन-ब-दिन खराब होती जा रही है। जहाँ एक ओर, प्रौद्योगिकी जीवन में अधिक आराम लाने के लिए चमत्कार कर रही है, वहीं दूसरी ओर पर्यावरण सभी नकारात्मक नतीजों का सामना कर रहा है। बढ़ते प्रदूषण, ऊर्जा संसाधनों की कमी, जहरीली हवा, और प्रतिकूल मौसम की स्थिति आदि पर्यावरण कई तरह से प्रभावित हो रहा है।

हालाँकि, आजकल लोग पर्यावरण की रक्षा के लिए जागरूक हो रहे हैं और इसे और अधिक क्षरण से बचाने के लिए वास्तविक प्रयास कर रहे हैं। किन्तु हम सभी को मिलकर इस गति को बढाना होगा क्यूंकि पर्यावरण का क्षरण तेज गति से हो रहा है और उनको संरक्षण देने का कार्य धीमी गति से हो रहा है। निम्नलिखित कुछ तरीके हैं जिनसे प्रत्येक व्यक्ति पर्यावरण को बचाने में कुछ हद तक योगदान दे सकता है।

Conservation Measures

संरक्षण उपाय

आपका योगदान:

आपके द्वारा दिया गया योगदान सारी मानव जाती ही नहीं वरन आपके आने वाली पीडी को भी संरक्षण प्रदान करेगा। यह प्राकृतिक संसाधनों की धरोहर केवल हमारे उपयोग हेतु नहीं है, बल्कि यह धरोहर हमे अपने पूर्वजो से इसलिए मिली है ताकि हम इसे अपने आने वाली पीड़ी को सौंप सके।

वक्त पर किया तो ठीक वरना पृथ्वी डिलीट..... और पढ़े मधुमक्खी और वातावरण खतरे में है..... और पढ़े कोरोना – कीमत चुकाती मानव सभ्यता..... और पढ़े

केवल एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक की चीजो का उपयोग न करे -प्लास्टिक गैर-बायोडिग्रेडेबल पदार्थ हैं जो कभी भी विघटित नहीं होता। प्लास्टिक भूमि प्रदूषण का कारण बनता है और पशुओं के लिए भी घातक साबित होता है जब वे पॉलीथिन बैग या पाउच निगलते हैं। यह उनकी श्वसन प्रणाली को चोक कर देता है और परिणामस्वरूप वे दम घुटने से मर जाते हैं। साथ ही प्लास्टिक के जलने से अत्यधिक जहरीली गैसों का उत्पादन होता है जो मनुष्यों के लिए हानिकारक हैं। हमें उन प्लास्टिक के उपयोग को रोकना चाहिए जो बैग, खिलौने और अन्य दैनिक उपयोग की वस्तुओं के रूप में उपलब्ध हैं और जूट बैग या पेपर बैग, मिट्टी के खिलौने आदि जैसे बेहतर विकल्पों की ओर मुड़ना चाहिये जो पर्यावरण के अनुकूल हैं।

ज्यादा से ज्यादा पेड पौधे लगाए - पेड़ हमारे चारों ओर की हवा को शुद्ध करने में मदद करते हैं तथा ग्रीनहाउस प्रभाव को कम करते हैं। हाल ही में, लोग पेड़ लगाने के फायदों के बारे में अधिक जागरूक हो रहे हैं क्योंकि विभिन्न देशों की सरकारों और संयुक्त राष्ट्र द्वारा कई मिशन और कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।

सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करें - निजी वाहनों का स्वामित्व अब आवश्यकता तक सीमित नहीं है; बल्कि यह एक स्टेटस सिंबल बन गया है। ईंधन के दहन से वाहनों से निकलने वाली गैसें वायु प्रदूषण को और अधिक बढ़ा रही हैं। इस प्रकार, पर्यावरण पर दबाव कम करने के लिए कार्य स्थल पर जाने के लिए सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करना बेहतर है।

ऊर्जा के वैकल्पिक स्रोतों का उपयोग करें - कोयला और पेट्रोलियम के दहन के दौरान उत्सर्जित होने वाली गैसें वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं जो ओजोन परत को कम करने में अत्यधिक योगदान देती हैं और इस तरह तापमान को बढ़ाने में मदद करती हैं। हमें ऊर्जा के अन्य रूपों जैसे पवन ऊर्जा, सौर ऊर्जा, भूतापीय ऊर्जा इत्यादि की ओर मुड़ना चाहिए क्योंकि वे किसी भी प्रकार का प्रभाव नहीं छोड़ते हैं और पर्यावरण के अनुकूल तरीके से काम करते हैं।

वर्षा जल संचयन - इस समय की आवश्यकता इस मुद्दे को गंभीरता से लेने की है कि हमे यथासंभव अधिक से अधिक पानी बचाने की कोशिश करनी चाहिए। ऐसा करने का एक सबसे अच्छा और आसान तरीका यह है कि हमारे छतों में जलाशयों, और टैंकों पर बारिश के पानी को इकट्ठा करना, ताकि इसका उपयोग हमारे घरों में अन्य कार्यो के लिए किया जा सके जैसे कि पौधों को पानी देना, बर्तन धोना आदि।

© 2018 - 2022 The Samajh | Designed by WENGS Solutions LLP